हदीसे हफ़्ता

قال رسول الله صلی الله علیه و آله:

إنَّ أبْوابَ السَّماءِ تُفْتَحُ فِی أوَّلِ لَیْلَةٍ مِنْ شَهْرِ رَمَضَانَ، وَلا تُغْلَقُ إلی آخِرِ لَیْلَةٍ مِنْهُ.

بحار الأنوار، ج 96، ص 344


हज़रत मुहम्मद सल्ललाहु अलैहे व आलेही व सल्लम फ़रमाते हैं


रमज़ान की पहली रात में आसमान के दरवाजे खोले जाते हैं और आखिरी रात तक बंद नहीं होते।




इस हिस्से में सभी शिया समाचार, शिया टीवी आदि मौजूद हैं।

अधिक

धार्मिक पुस्तकें, सॉफ्टवेयर, कैसेट और सीडी स्थलों और केन्द्र।

अधिक

यहाँ कुरान से इस्तेख़ारा देखने के तरीक़े बयान हुए हैं।

अधिक

मुक़ामाते मुक़द्दसा की आनलाइन ज़ियारत

अधिक