हदीसे हफ़्ता

قال رسول الله صلی الله علیه و آله:

مُداراةُ النّاسِ نِصْفُ الإیمانِ، وَ الرِّفقُ بِهِْم نِصْفُ العَیْشِ

کافی، ج 2، ص 117


हज़रत मुहम्मद सल्ललाहु अलैहे व आलेही व सल्लम फ़रमाते हैं


लोगों से मेलजोल ईमान का हिस्सा है और उनसे दोस्ती जीवन का हिस्सा है।




इस हिस्से में सभी शिया समाचार, शिया टीवी आदि मौजूद हैं।

अधिक

धार्मिक पुस्तकें, सॉफ्टवेयर, कैसेट और सीडी स्थलों और केन्द्र।

अधिक

यहाँ कुरान से इस्तेख़ारा देखने के तरीक़े बयान हुए हैं।

अधिक

मुक़ामाते मुक़द्दसा की आनलाइन ज़ियारत

अधिक